गांवों में नहीं मिला काम 70 प्रतिशत मजदूर वापस लौटेंगे शहर

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरोएक सर्वे के अनुसार जो मजदूर लॉकडाउन में अपने गांव जाने के लिए व्याकुल थें, आज वही मजदूर वापस शहर आने के लिए चिंतित है। गांवों में रोजगार नहीं मिलने और कमाई ना होने के कारण मजदूरों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है।

सर्वे के मुताबिक उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ के नियमित वेतन या मजदूरी पाने वाले मजदूर सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। वहीं, गैर-कृषि क्षेत्र में सामयिक मजदूर सबसे कम प्रभावित हुए है।

गांव आने के कारण मजदूरों की आय 85 फीसदी कम हो गयी है जिससे की मजदूरों को अपनी आम जिंदगी में तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है। यूपी झारखंड के मजदूर सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। सर्वे के अनुसार प्रवासी पुरुषों और महिलाओं की औसत आयु क्रमशः 26 वर्ष है। सर्वेक्षण में शामिल राज्यों में, 25 वर्ष की औसत आयु के साथ छत्तीसगढ़ के प्रवासी सबसे कम उम्र के हैं।

अनलॉक-5 शुरू होने के बाद से देश की अर्थव्यवस्था 90 फीसदी से अधिक खुल चुकी है। इससे कंपनियों में फिर से काम शुरू हुआ है। ऐसे में कंपनियां प्रवासी मजदूरों को अधिक मजदूरी देने का आश्वासन देकर बुला रही है।

वहीं, 41 फीसदी मजदूर नए जॉब की उम्मीद में शहर को लौट रहे हैं। बिहार से लौट रहे अधिकांश प्रवासी मजदूरों ने कहा कि उसके पुराने नियोक्ता नौकरी देने और अधिक वेतन देने को तैयार है।

दिल्ली के मालवीय नगर में बाबा को रोता देख मटर पनीर खाने पहुंचे लोग

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरोशानू कुमारी

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES