जब अटल जी ने पाकिस्तानी महिला पत्रकार से दहेज में मांगा पूरा पाकिस्तान

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरो: हम सभी यह जानते है की  बीते 16 अगस्त 2018 को अटल जी का निधन हो गया था जिससे पूरे देश में शोक की लहर दौड़ पड़ी थी| जो न कभी रुका न झुका अब वह हमेशा के लिए विदा हो गया। उनकी यादें सबके दिलों में इतनी गहरे पैबस्त हैं जो कभी मिट नहीं सकतीं। इस दुनिया से जाने के बाद आज भी अटल जी सबके दिलो में ज़िंदा है, उनकी सादगी से काफी लोग प्रभावित हो जाया करते थे, उनकी मृत्यु का कारण यूरिन इंफेक्शन बताया गया था।

अटल जी का व्यक्तित्व ही ऐसा रहा जो सबसे घुल-मिल जाता था। आज भले ही अटल जी हमारे बीच  मौजूद ना हो लेकिन उनकी सुनहरी यादें आज भी लोगो के दिलों में  बसी हुई है। तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी को किसी एक नहीं बल्कि कई ऐसे कदमों के लिए जाना जाता है जिन्होंने देश की दशा और दिशा बदलने में बड़ी भूमिका निभाई। उन्हीं के शासनकाल में देश परमाणु शक्ति संपन्न बना वहीं कारगिल युद्ध में जीत भी उनके प्रधानमंत्री काल में ही मिली थी।

अटल जी ने करीब 50 वर्षों तक भारतीय संसद के सदस्य के तौर पर अपनी सेवाएं दी और अकेले ऐसे नेता हैं जो 4 अलग-अलग प्रदेशों से चुने गए। जवाहर लाल नेहरू के बाद अटल बिहारी बाजपेयी ही एकमात्र ऐसे नेता हैं, जिन्होंने लगातार तीन बार प्रधानमंत्री पद संभाला। वह भारत के सबसे सम्माननीय और प्रेरक राजनीतिज्ञों में से एक रहे। आज हम आपको अटल जी से ही जुड़ा एक किस्सा बताने जा रहे हैं, जो बहुत ही दिलचस्प है साथ ही अटल जी के हाजिरजवाबी का भी एक अच्छा उदाहरण है।

 

ये वाकया 1999 का है जब अटल बिहारी वाजपेयी भारत के प्रधानमंत्री हुआ करते थे, उस समय हिंदुस्तान और पाकिस्तान दोनों मुल्कों के एक खास समझौते से एक बस सेवा की शुरवात हुई थी, अमृतसर-लाहौर बस सेवा शुरू करने के दौरान प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी स्वयं बस में सवार हो कर लाहौर तक यात्रा तय की थी। लाहौर पहुंचने के बाद भारत के पीएम का वहां जोरदार स्वागत किया गया था। इस दौरान उन्होंने वहां के गवर्नर हाउस में जबरदस्त भाषण दिया था और पाकिस्तान को फटकार लगाते हुए कहा था आप दोस्त बदल सकते हैं, पड़ोसी नहीं। इतिहास बदल सकते हैं, भूगोल नहीं

 

उस समय गवर्नर हाउस में मौजूद एक महिला पत्रकार ने उनसे बड़ा ही अनोखा सवाल कर दिया था उस महिला पत्रकार ने अटल जी से ये सवाल पूछा की आप आज तक अविवाहित क्यो है, और मैं आपसे शादी करना चाहती हूं, लेकिन मेरी शर्त है कि आपको मुंह दिखाई में मुझे कश्मीर देना होगा।

 

उस महिला पत्रकार के सवाल को सुनकर उन्होंने मुस्कुराते हुए अपने अंदाज़ में जवाब दिया की कि मैं तैयार हूं लेकिन दहेज में मुझे पूरा पाकिस्तान चाहिए, इस जवाब को सुनते ही वह बैठे सभी लोग का मुँह खुला का खुला रह गया, किसी ने भी ये नहीं सोचा था की उन्हें कुछ इस तरह का जवाब सुनाने को मिलेगा।

 

आपको शयद ये बात मालूम न हो की अटल बिहारी जी कि हाज़िर जवाबी में उनका कोई मुकबला नहीं हुआ करता था, और साथ ही उनकी सोचने कि क्षमता किसी भी व्यक्ति से बहुत ज्यादा थी, दोस्तों अटल के जीवन में काफी मर्तबा ऐसी घटनाएं हो चुकी है जिन्हे सुनाने के बाद उस महफ़िल में मौजूद सभी लोग हंस पड़े।

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरो: राज माहुर

 

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES