हजारों किमी दूर अपने घरों के लिए पैदल निकले मजदूरों ने कहा, अब नहीं जाएंगे परदेश 

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरो:  कोरोना वायरस के कारण सम्पूर्ण देश में लॉकडाउन है। इस संकट की मार सबसे ज्यादा संगठित व असंगठित क्षेत्र के मजदूरों पर पड़ी है। जिस पापी पेट के लिए ये मजदूर अपनों से कई हजार किमी दूर कमाने गए थे, अब वहीं से भूखे पेट ही लौटना पड़ रहा हैं। बेवशी का आलम ये है कि अब उन्हें वापस लौटने का रास्ता पैदल ही तय करना पड़ रहा है। कुछ किस्मत वाले भी थे, जिन्हें साधन मिल गया। पैरों में छाले और आंखों में उम्मीद लिए इन मजदूरों की जुबां पर बस एक ही बात है कि ये संकट कब ख़त्म होगा।

सफ़र पर निकल पड़े इन मजदूरों के पास सफ़र के अपने किस्से हैं। प्रवासी श्रमिकों से पलायन करने की वजह पूछी तो उन्होंने बताया कि शहर में रुकते तो बीमारी से शायद बाद में मरें, भूख से पहले मौत हो जाती।

बनारस पहुंचे कुछ मजदूरों से बातचीत में उन्होंने बताया कि लॉकडाउन से पहले सबकुछ ठीक चल रहा था। लेकिन लॉकडाउन में नौकरी चली गई। कुछ दिन तो राशन का इंतजाम कर दिन बीत गए। लेकिन उसके बाद लगा कि, यहां और रुके तो भूखे मर जाएंगे। राशन व पैसा खत्म हो चुका था। छह दिन पहले एक लॉरी के ड्राइवर से बात हुई। उसने हमसे 17-17 हजार लेकर बनारस तक पहुंचाने का वादा किया। यहां से हमारा सफर शुरू हुआ। लॉरी वालों की अपनी एक चेन है जिन्होंने तीन चार जगह लॉरी बदलकर हमें बनारस तक पहुंचाया। यहां से चंदौली पैदल ही जाना है। 6 दिनों में सिर्फ नागपुर और प्रयागराज में खाने को मिला था। अब हमें चंदौली तक पैदल ही सफर करना पड़ेगा। थकान व भूख से शरीर भी जवाब दे गया है।

वहीं गाजीपुर सैदपुर के रहने वाले छेदी राम 5 दिनों पहले महाराष्ट्र से परिवार के 15 सदस्यों के साथ वाराणासी पहुंचे तो सभी ने राहत की सांस ली। उन्होंने बताया अपनी मैजिक गाड़ी है जिससे पूरा परिवार मौत से जंग लड़ते यहां तक पहुंचा है। हाइवे पर लागातर श्रमिकों का पैदल आना जारी हैं। राजातालाब-रोहनिया मार्ग पर लोग ट्रकों में अंदर बैठकर तो कही ट्रकों में 15-15 फिट ऊंचे लदे प्याज और आलू की बोरियों पर बैठकर जाते दिखे। जिंदगी की परवाह किए बगैर लोग बस घर पहुंचने के लिए मौत से जंग लड़ रहे हैं।

 

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरो:  राज माहुर

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES