राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर वार, बोले- महंगाई भत्ता रोकना असंवेदनशील और अमानवीय’

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरो:  कोरोना के खिलाफ  इस लड़ाई में सरकार का एक वार सरकारी  कर्मचारियों पर पड़ने लगा है,केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ता के बढ़ोत्तरी पर रोक लगा दी गयी है, महंगाई भत्ते के बढ़ोत्तरी के बाद 17 से 21 फीसदी  महंगाई भत्ता मिलने वाला था,लेकिन सरकार ने इस पर रोक लगा दी है सरकार के तरफ से यह रुकावट जुलाई 2021 तक रहेगी। इसका मतलब तक़रीबन 18 महीनों तक सिर्फ 17 फीसदी के हिसाब से महंगाई भत्ता मिलेगा।

महंगाई भत्ता के बढ़ोत्तरी पर रोक लगाने से केन्द्र सरकार का कुल 37,530 करोड़ रुपये की बचत होगी। और अगर राज्य सरकारें भी जुलाई 2021 तक महंगाई भत्ते पर बढ़ोत्तरी पर रोक लगा देती हैं तो कुल 82,566 करोड़ रुपयें की बचत होगी। अगर केन्द्र और राज्य सरकारों को मिला दिया जाए तो कुल 1.20 करोड़ रुपयों की कुल बचत होगी, इससे सरकारी खजाने को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी और कोरोना नामक महासंकट से लड़ाई के  समय ये बहुत मददगार साबित होगा।

हालांकि यही राहुल गांधी ने ट्वीट कर के बताया – लाखों करोड़ की बुलेट ट्रेन परियोजना और केंद्रीय विस्टा सौंदर्यीकरण परियोजना को निलंबित करने की बजाय कोरोना से जूझ कर जनता की सेवा कर रहे केंद्रीय कर्मचारियों, पेंशन भोगियों और देश के जवानों का महंगाई भत्ता(DA)काटना सरकार का असंवेदनशील तथा अमानवीय निर्णय है।’

महंगाई भत्ता(DA) एक तरह का उपहार है जो सरकार द्वारा दिया जाता है सरकारी कर्मचारियों की रहन-सहन के लिए या यूँ कहें की उनकी दैनिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए, उनके सैलरी के हिसाब से दिया जाता है।

 

क्राइम वीक न्यूज़ ब्यूरो:  उपकार कुमार

Share This News
2 thoughts on “राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर वार, बोले- ‛महंगाई भत्ता रोकना असंवेदनशील और अमानवीय’”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES